Cache Memory क्या है ? Cache Memory का महत्तव क्या है ?

Cache Memory kya hai ? इसके बारे में आप ने जरूर सुना होगा अगर नहीं सुना है तो कोई बात नहीं हम आज आप को इस पोस्ट में बतायेगे की Cache Memory in hindi क्या है और इसका उपयोग क्यों किया जाता है तो आप इस पोस्ट को पूरा जरूर पड़े

Cache Memory

 

Cache Memory क्या है ?

Cache Memory एक अस्थिर मेमोरी होती है जो CPU में लगी होती है जिसे हम CPU मेमोरी भी कहते है। सभी तत्काल दिए गए निर्देश    Cache Memory में ही स्टोर होता है। इस मेमोरी को सबसे तेज मेमोरी मानी जाती है जो कंप्यूटर के माइक्रोप्रोसेस को उच्च स्तर पर डेटा एक्सेस प्रदान करती है Cache Memory का प्रयोग यूजर के द्वारा दिए जा रहे इनपुट को इकठा करने के लिए किया जाता है जो कंप्यूटर प्रोसेस को कार्य के लिए आवश्यता होता है। लेकिन रैम और हार्ड डिस्क के मुकाबले में Cache Memory की छमता काफी कम होती है।

 

इसे भी पढ़े –  मशीन लर्निंग क्या है ?

 

Cache Memory का महत्तव क्या है ?

Cache Memory बहोत महगे दामों की होती है और इसकी स्टोरेज छमता काफी काम होती है। पहले कैश मेमोरी को अलग से ख़रीदा जाता था लेकिन आज के समय में माइक्रो प्रोसेस के चिप के साथ ही कैश मेमोरी लगी आ रही है कैश मेमोरी का प्रयोग मैन मेमोरी और CPU की गति को तेज करने के लिए होता है।CPU क्लॉक बहोत तेजी से काम करता है लेकिन मेन  मेमोरी का ACCESS समय काफी धीमा होता है।

 

Cache Memory

 

इसीलिए प्रोसेसर की स्पीड से कोई फर्क नहीं पड़ता है क्योकि प्रोसेसर की स्पीड मेन मेमोरी के स्पीड पर निर्भर करती है कैश मेमोरी वर्तमान में किये जा रहे प्रोगाम को या उनके कुछ भाग को स्टोर करती है। कैश मेमोरी अस्थाई डाटा को भी स्टोर करती रहती है जो की CPU को अभी कभार आवश्कता पड़ सकता है।

कैश मेमोरी बहोत सरे अल्गोरिथम के अनुसार पर कार्य करती है जो यह तय करती है की कौन सी जानकारी सबसे महत्वपूर्ण है और वह उसे ही स्टोर करती है।

 

टच स्क्रीन क्या है ? और यह कैसे काम करता है ?

Artificial intelligence क्या है ?

 

 

Cache Memory कितने प्रकार के होते है ?

Cache Memory को विभिन्न प्रकार में विभाजित किया गया है जैसे- L1 , L2 , L3

L1 – यह मेमोरी बहोत तेज होता है लेकिन इसका स्टोरेज छमता बहोत छोटा होता है। जो 2 KB से 64 Kb तक हो सकता है यह आमतैर पर प्रोसेसर के चिप से जुड़ा होता है

L2 – यह मेमोरी अक्सर L1 वाले मेमोरी की तुलना में इसकी स्टोरेज छमता अधिक होती है जो 256 KB से 512 KB तक हो सकता है। L2 को cpu पर एम्बेड किया जा सकता है या फिर यह एक अलग चिप या प्रोसेसर हो सकता है और फिर छपु के साथ जुड़कर एक उच्च गति वाला सिस्टम बन सकता है।

L3 – इस मेमोरी की छमता स्टोरेज L1 और L2 से बहोत अधिक है जो 1 MB से 8 MB तक हो  सकता है  इसकी स्पीड    और     से काफी धीमा होता है   हलाकि रैम की गति से दोगुना अधिक तेज होता है

 

Cache Memory के फायदे क्या – क्या है ?

  • कैश मेमोरी से बहोत सारे फायदे हो सकते है.
  • मेन  मेमोरी के मुकाबले कैश मेमोरी काफी तेजी से कार्य करती है और इसकी स्पीड काफी तेज होती है।
  • कैश मेमोरी बहोत कम समय में डेटा को एक्सेस कर देता है
  • यह उस प्रोग्राम को भी स्टोर करती है जिसे कुछ समय पहले ही एक्सक्यूटे किया जा सकता है।
  • यह उस डाटा को भी स्टोर करती है जिसे आप बाद में भी उपयोग में ला सकते है।

 

Cache Memory के नुकसान क्या है ?

Cache Memory के बहोत ज्यादा तो नुकसान नहीं है

  • कैश मेमोरी की स्टोरेज छमता बहोत सिमित होती है
  • इसका दाम बहोत ज्यादा  होता है जिससे हर यूजर इसे नहीं खरीद सकता है।

 

निष्कर्ष

आशा है कि आप को इस पोस्ट से Cache Memory क्या है और Cache Memory का महत्तव क्या है ? इससे जुड़ी सारी जानकारी मिल गई होगी मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि हमारी आर्टिकल के जरिए आपको दिए गए विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त हो सके।

ताकि आपको कहीं और जाना ना पड़े इस आर्टिकल से जुड़ी अगर कोई भी परेशानी हो तो आप हमें कमेंट में जरूर बताएं जिससे हम आपके परेशानी को जल्द से जल्द दूर करने की कोशिश करेंगे।

Default image
RAHUL
नमस्कार दोस्तो मेरा नाम राहुल विश्वकर्मा है , और मै इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ । मैं अभी कंप्यूटर साइंस से डिप्लोमा कर रहा हूँ , मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है । अगर आप टेक्नोलॉजी , कंप्यूटर , इंटरनेट और ऑनलाइन पैसे कैसे कमाये से सम्बंधित विषय मे रुचि रखते है , तो यह ब्लॉग आप के लिए ही बनाया गया है ।

Leave a Reply