Data Kya Hai In Hindi .

Business चाहे किसी भी तरह का हो DATA की जरूरत सबको पड़ती है खास बात यह है कि हर बिज़नेस की जरूरत की हिसाब से डेटा उपलब्ध भी होता है लेकिन सवाल यह है कि यह data होता क्या है और किसी भी बिज़नेस के लिए यह इतना इम्पोर्टेन्ट क्यो होता है इस सवाल का जवाब आप को इस पोस्ट में मिल जाएगा इसीलिए इस पोस्ट को आप पूरा जरूर पड़े

 Data kya hai – Data kya hota hai –

 

सामान्य रूप से देखे तो DATA कैरेक्टर का एक ऐसा सेट है जो किसी पर्पस के लिए कलेक्ट और ट्रांसलेट किया जाता है डेटा को कलेक्ट और Translated किया जाता है डेटा को कलेक्ट करने का मेन रीजन analysis करना होता है डेटा में कोई भी कैरेक्टर text number पिक्चर साउंड और वीडियो शामिल हो सकते है जहाँ तक कंप्यूटर डेटा की बात है तो यह डेटा ऐसी इनफार्मेशन होती है जहाँ कंप्यूटर के द्वारा प्रोसेस और स्टोर की जाती है यह text डॉक्यूमेंट की फॉर्म में भी हो सकता है इमेज ऑडियो क्लिप्स सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स या किसी भी और रूप में हो सकता है

 

 Data क्या होता है  ? 

 

इस डेटा को cup के द्वारा प्रोसेस किया जाता है और कंप्यूटर की हार्ड डिस्क में फ़ाइल और फोल्डर के रूप में स्टोर किया जाता है कंप्यूटर स्टोर में डेटा बाइनरी डिजिट में रहता है यानी 1 और 0 कि फॉर्म में डेटा word लेटिंग शब्द से आया है और इसका अर्थ होता है समथिंग given डेटा एक प्लुरल word है और इस सिंग्नल फॉर्म में डिफ़ॉर्म होती है लेकिन यह word इतना चलन में आ गया है कि सिंग्नल word यूज के लिए भी  डाटा  word ही इस्तेमाल किया जाने लगा है तो कंप्यूटर में डाटा इनपुट होने से पहले raw होता है और जब इस raw data को कंप्यूटर में इनपुट किया जाता है तब डेटा प्रोसेस होता है

तो इस तरह raw data से प्रोसेस्ड डाटा  जब तैयार हो जाता है तब उसे इनफार्मेशन कहा जाता है डाटा  को कंप्यूटर में स्टोर करने के लिए हार्ड डिस्क का इस्तेमाल किया जाता है इसके अलावा दूसरे स्टोरेज डिवाइस का यूज भी किया जाता है इनफार्मेशन क्लासिफिडे और ऑर्गनाइसेड डेटा होती है प्रॉसेस डाटा  यानी इनफार्मेशन इतनी उसफुल के बेस पर डिसिशन और एक्शन लिए जा सके इसके लिए प्रोसेस डेटा में यह quality होनी बहोत जरूरी है

 

Computer data कितने type के होते  है ?

Text Font इसमे alphabets आते है Number data इसमे Numberआते है alphanumeric data इसमे सिबोल आते है जो कि keyboard पर होते है जैसे @ , # , $ , % , &

Image data इसमे JPEG JPG PNG फॉर्म में तैयार की गई इमेज आती है ऑडियो वीडियो डाटा  की बात करे तो इसमें mp3 mp4 और HD जैसे बहोत से फॉर्मेट में डेटा रहत है

 

Modem और Router क्या होते है ? 

 

 Data processing क्या होता है ? 

Data processing का मतलब लोगो को मशीनी के द्वारा डाटा  को ज्यादा यूजफुल बनाने और किसी खास पर्पस के लिए उपयोगी बनाने के लिए फिर से तैयार करना एक सिस्टेमेटिक आर्डर में जमाना होता है

 Data processing 3 स्टेप्स में होते है

  •  Input
  •  Processing
  • Output

1. Input –  इस स्टेप्स में डेटा को कंप्यूटर में input किया जाता है Data input करने से पहले उसे कलेक्ट किया जाता है वह वेरिफिय किया जाता है और उसके बाद कंप्यूटर में इनपुट कर दिया जाता है यह डेटा कंप्यूटर में बाइनरी फॉर्म यानी कि 0 ,  1 में स्टोर रहता है

2. Processing इस स्टेप में इनपुट डेटा को ज्यादा यूजफुल बनाने के लिए किया जाता है वह प्रोसेसिंग का काम CPU करता है

3. Output – Processing data इनफार्मेशन के रूप में प्राप्त होता है इस output स्टेप में इनपुट data की तुलना में ज्यादा यूजफुल डाटा  प्राप्त होता है जिसे हार्ड डिस्क में स्टोर भी किया जा सकता है और कभी भी वापिस पड़ा जा सकता है

 

 Data प्रोसेसिंग की जरूरत क्यों पड़ती है ?

आज के समय मे सारा काम कंप्यूटर से होता है ऐसे में Academy institute या कर्सले यूजर के लिए प्राइवेट या पर्सनल Use के लिए और ससिटिफिक रिसर्च के लिए ज्यादा से ज्यादा data collect किया जाता है

 

 

इस कलेक्टेड डाटा  को store करना short और filter करके अनालीक्सर करना बहोत जरूरी होता है ताकि जरूरत के अनुसार इसका महत्व यूज किया जा सके इस लिए data processing जरूरी होता है और यह प्रोसेस सिंपल होगा या कंप्लेट्स यह इस  बात पर डिपेंड करता है कि किस स्किल पर डाटा  collect किया गया है और उसे किस प्रकार का रिजल्ट एक्सपेक्ट है

 

Data Management क्यो जरूरी होता है ?

किसी भी ऑर्गनाइजातिओं के लिए डेटा उसका one of the most important ACIT होता है कि डेटा से ही इनफार्मेशन बनती है जो बिज़नेस से  जुड़े डिसिशन का आधार होती है अगर डेटा एक्यूरेट कंपलीट और ऑर्गनाइज होता है तो यह डेटा उस ऑर्गनाइज़ की मु   में      देता है आज कल किसी भी ऑर्गनाइजातिओं के लिए data collect ion इतने बडे स्किल पर होता है की उसे मैनुयली  प्रोसेस नही किया जा सकता इसिकिये हर कंपनी को एक एक्सट्रा डाटा  मैनेजमेंट की जरूरत पड़ती है

इसके अलावा डाटा  मैनेजमेंट होने वाले अगर बेनिफिट्स की बात की जाए तो कॉम्पनी की प्रोडक्टिविटी बढ़ती है सिक्योरटी रिस्क कम हो जाता है आपरेशन आसानी से कंपलीट हो जाते है data।  हिने के चांस बहोत कम रह जाते है कंपनी के फायदे से जुड़े डिसिशन लेना काफी ज्यादा आसान हो जाता है तो इसके अलावा डेटा रेलेवेंट  होना भी हर कॉम्पनी ऑर्गनाइजेशन  के लिए जरूरी होता है

 

निष्कर्ष

आशा है की आप को DATA क्या है ? और यह कितने प्रकार के होते है इससे जुडी सारी जानकारी आप को मिल गयी होंगी मेरी हमेशा से एहि कोशिश रहता है की हमारे द्वारा दिए गए विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त हो सके जिससे आप को कही और जाने की जरुरत  पड़े

अगर आप को इस पोस्ट से जुडी कोई भी परेशानी हो तो आप हमें कमेंट में जरूर बताये जिससे हम आप के परेशानी को जल्द से जल्द दूर कर सके।

 

Default image
RAHUL
नमस्कार दोस्तो मेरा नाम राहुल विश्वकर्मा है , और मै इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ । मैं अभी कंप्यूटर साइंस से डिप्लोमा कर रहा हूँ , मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है । अगर आप टेक्नोलॉजी , कंप्यूटर , इंटरनेट और ऑनलाइन पैसे कैसे कमाये से सम्बंधित विषय मे रुचि रखते है , तो यह ब्लॉग आप के लिए ही बनाया गया है ।

Leave a Reply