Open Source Software kya hai ? In Hindi .

Open Source Software kya hai ? आज हम एक ऐसे विषय के बारे में बात करेंगे जिसके बारे में ज्यादा लोग नही जानते है कंप्यूटर और मोबाइल में हम जो भी कार्य करते है वह सभी हमे अलग अलग विशेष सॉफ्टवेयर की मदद से कर पाते  है यह सॉफ्टवेयर प्रोग्राम द्वारा लिखे और विकशित किये जाते है अगर आप कंप्यूटर स्टूडेंट है या फिर आप ने किसी कंप्यूटर का कोर्स किया है तो आप ने Open Source सॉफ्टवेयर का नाम जरूर सुना होगा लेकिन अगर आप कंप्यूटर की दुनिया से जुड़े इस महत्वपूर्ण टर्म के बारे में नही जानते है तब फिर आप इस परेशानी का हल इस पोस्ट में जरूर मिलेगा।

आज के इस पोस्ट में हम Open Source  सॉफ्टवेयर से जुड़ी सारी जानकारियां आप के साथ शेयर करने वाले है और आज के इस पोस्ट में आप जानेंगे Open Source  सॉफ्टवेयर के बारे में और इसके फायदे के बारे में.

 

Open Source Meaning in Hindi ? 

जब एक  developer अपनी तकनीकी के ज्ञान से एक सॉफ्टवेयर बनाता है तो उस सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए गए Source कोड को एक लाइसेंस के साथ सार्वजनिक तौर पर सभी व्यक्ति को उस सॉफ्टवेयर के Source को पढ़ने उसमे सुधार करने और अपनी इच्छा के अनुसार बदलाव करने का अधिकार दे देता है उस सॉफ्टवेयर को ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर कहते है अर्थात Open Source Software ऐसा सॉफ्टवेयर है जो सोर्स कोड के साथ बनाया जाता है जिसे यूजर द्वारा पढा या संसोधित किया जा सकता है

और उसका सोर्स कोड इंटरनेट पर मुफ्त रूप में उपलब्ध होता है ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर की श्रेणी में ऐसे सॉफ्टवेयर आते है जिनका सोर्स कोड उस सॉफ्टवेयर के साथ सबके लिए उपलब्ध होता है सामान्य रूप से ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के लिए डेवलपर का समूह जिसे डेवेलोप कम्युनिटी भी कहा जाता है

 

 

Open Source  सॉफ्टवेयर क्या है ? 

 

यह सब मिल कर कार्य करते है National Resource Center Of Free open source Software ( NRCFOSS ) एक सरकारी संगठन है जो भारत मे ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर की वृद्धि करने के लिए बनाया गया है

अगर आप कंप्यूटर या स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते है तब आप अपने देवीकेस मे कोई सॉफ्टवेयर या अप्प डाउनलोड करने के लिए इंटरनेट पर जब सर्च करते है तो आप ने बहोत सारे ऐसे सॉफ्टवेयर को देखा होगा जो मुफ्त में उपलब्ध होते है यह सारे सॉफ्टवेयर ओपन सॉर्स सॉफ्टवेयर्स के द्वारा ही बनाये गए होते है अब आप सोच रहे होंगे कि ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर्स में कैसे कोई व्यक्ति बदलाव कर सकता है जबकि उस सॉफ्टवेयर्स को बंनाने वालो कोई और ही होता है

तो चलिए मैं थोड़ा आप को इसके बारे में विस्तार से बताता हूं

कोई भी सॉफ्टवेयर बनाने के लिए कोडिंग की जरूरत होती है और कोडिंग दो तरह की होती है

पहला होता है –    Source code और दूसरा है –  object code

जब तक किसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे C,  C++ या java जैसे लैंग्वेज में प्रोग्राम लिखते है तो प्रोग्राम 5 या 10 लाइन का नही होता बल्कि बहोत सारे लाइन्स का होता है और उस समूह को हम कंप्यूटर की भाष में प्रोग्रामिंग इंस्ट्रक्शन कहते है

जो एक कोड की तरह होता है इस कोड को हम Source code कहते है हम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर डिवाइस में रन करने के लिए बनाते है लेकिन इस सोर्स कोड को कंप्यूटर नही समझ पाता क्योकि Source code ह्यूमन रेडबले फॉर्मेट में होता है जिसे केवल हम और आप समझ सकते है कंप्यूटर द्वारा लिखे गए सॉर्स कोड को समझ सके इसके लिए कंप्यूटर की सहायता ली जाती है जो सॉर्स कोड को ऑब्जेक्ट कोड में परिवर्तित कर देता है कंप्यूटर सिर्फ 0 या 1 bite को समझता है उसके लिए ऑब्जेक्ट कोड  मशीन कोड कहा जाता है

यह object कोड 0 और 1 bite का सीक्वेंस होता है जैसे 01 001 1100  जो हम मनुष्य समझ नही सकते है लेकिन कंप्यूटर इन्हें समझ पाता है उसके बाद सॉफ्टवेयर को रन करता है तब जाकर सॉफ्टवेयर्स बन कर तैयार होता है इसीलिए जब हमे किसी सॉफ्टवेयर्स का सोर्स कोड उपलब्ध होता है हम उसमे अपनी जरूरत के अनुसार सोर्स कोड में परिवर्तन कर उसमें नए नए फीचर्स जोड़ सकते है या उसमे सुधार करके सॉफ्टवेयर को बेहतर बना सकते है

सॉर्स कोड का उपयोग करके नया सॉफ्टवेयर्स देवेलोपेर्स कर सकते है और उसे मुफ्त या कुछ शुल्क के साथ बेच भी सकते है इन सभी कामो पर किसी भी कोई भी पाबंदी नही रहती है

ऐसा नही है कि इंटरनेट में आप को जिनते भी अप्प और सॉफ्टवेयर मिलते है वह सभी मुफ्त में उपलब्ध होते है कुछ ऐसे भी सॉफ्टवेयर है जिनका आप को इस्तेमाल करने के लिए कीमत देनी पड़ती है जो सॉफ्टवेर हम पैसे देकर इस्तेमाल  करते है वह एक close सॉर्स सॉफ्टवेयर होता है जिसे प्रॉपर्टी सॉफ्टवेयर भी कहते है इस सॉफ्टवेयर का सोर्स कोड आप को सॉफ्टवेयर के साथ नही मिलती है इसीलिए इसमे कोई भी व्यक्ति अपने अनुसार बदलाव नही कर सकता है

प्रोपेर्टी सॉफ्टवेयर का सोर्स कोड बहोत सुरक्षित रख जाता है इसको केवल वह कंपनी मोडफी या डेवेलोप कर सकती है जिससे इस सॉफ्टवेयर को बनाया है क्लोज सोर्स सॉफ्टवेयर का सिंपल से उद्धरण है विंडो और IOS ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर को एक क्लोज सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है

 

HDD And SDD Kya Hota Hai ?

 

Open Source  और Close  Source Software में क्या अंतर है ? 

ओपन सॉर्स सॉफ्टवेयर क्लोज सॉर्स सॉफ्टवेयर में बेहतर होता है क्योंकि हम ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर में सोर्स कोड को अपनी मुताबित modify करके प्रोयोग करने के लिए आसान बना सकते है जबकि क्लोज सॉर्स सॉफ्टवेयर में ऐसा करना संभव नही है इसीलिए ज्यादा तर नए डेवेलोप ओपन सॉर्स सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल अपने द्वारा लिखे गए प्रोग्राम की टेस्टिंग करने के लिए करते है और नए नए सॉफ्टवेयर डेवेलोप करने का अभ्यास करते है ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर में ऑपरेटिंग सिस्टम में लिनक्स Symbian।  में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में  PHP , python , वेब ब्राऊज़र में  मोज़िला फायर box ,  गूगल क्रोम आदि कई प्रसीद उदाहरण है

Open Source  और Close  Source Software में क्या अंतर है ? 

 

 

ओपन सॉर्स सॉफ्टवेयर का सबसे बड़ा लोगप्रिय उदाहरण है एंड्राइड जिसे आज लाखो करोड़ो लोग इस्तेमाल करते है एंड्राइड गूगल द्वार बनाया गया एक ओपन सौरसे ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग कोई भी कर सकता है और उसमें अपने अनुसार बदलाव कर नए नए फीचर्स add कर के दूसरे लोगो के साथ डिस्टबूटे कर सकते है अगर आप डेवलपर बनना चाहते है और आप आप को ओपन सॉर्स सॉफ्टवेयर की जरूरत है जहाँ से आप सॉफ्टवेयर्स बनाने का कार्य कर सकते है तो उसके लिए कुछ वेबसाइट भी मौजूद है जिसके नाम है।   www.Sourceforge. com और www. open sourse.org

 

Open Source  के क्या फायदे है ?

1. Free of cost –    open Source software के तरह जितने भी सॉफ्टवेयर डेवेलोप किये जाते है उसे नि शुल्क उपलब्ध करवाया जाता है इस सॉफ्टसरे के Source code पूरी तरह से मुफ्त में प्रदान किये जाते है जिसे कोई भी modify कर सकता है एक अनुमान से यह पता चला है कि open Source software मुफ़्त में उपलब्ध होने  की वजह प्रति वर्ष लोगो को लगभग60 $बिलियन पैसे की बचत होती है

2. High Quality –  open Source software की Quality कामर्स सियाल सॉफ्टवेयर से भी ज्यादा बेहतर होता है क्योंकि इन्हें दुनिया के अलग अलग देवेलोपेर्स अपनी जरूरतों के हिसाब से सामूहिक रूप से  विकशित करते है इस लिए इस सॉफ्टवेयर्स में हर प्रकार के यूजर के जरूरत का ख्याल रखा जाता है साथ ही इसमे छोटी मोटी कमिया समय रहते ही ठीक कर दी जाती है यही कारण है कि सॉफ्टवेयर quality बहोत अच्छी होती है

 

Open Source  के क्या फायदे है ?

 

3. Security –   open Source software बेहतर Quality के साथ साथ अधिक सुरक्षित भो होते है यह समय समय पर अपडेट भी किये जाते है जहाँ पर इसके एरर को भी ठीक किया जाता है जिसे यह सॉफ्टवेयर पूरी तरह से सुरश्कित हो जाता है क्योंकि इसमें दुनिया भर के देवेलोपेर्स द्वारा योगदान दिया जाता है इसिसलिये यह बहोत ही शक्तिशाली होती है

 4. Trening –  बहोत से लोग open Source software को इसीलिए पसंद करते है क्योंकि इसका इस्तेमाल करके वह बेहतर प्रोग्राम बना सकते है यह सॉफ्टवेयर ओपन होता है जिसमे कोई भी नौ सूखिया इसका ओपन Source देख कर आसानी से प्रोगरामिंग कर सकता है कंप्यूटर  पढ़ने वाले बच्चे भी कॉडिंनग सिख कर अपना प्रोग्राममिंग और डेवलपिंग स्किल को बड़ा भी सकते है open Source software का Source code देखने या एडिटिंग करने के लिए आप को development प्लेटफार्म पर सौरसे code free में मिल जाएंगे

Development प्लेटफार्म से Github. com सबसे महशूर नाम है जहाँ पर आप को कई सारे प्रोगरामिंग open Source software के Source code में जाएंगे

 5. control –  open Source software के साथ सौरसे code भी उपलब्ध करवाया जाता है इस लिए user अपनी जरूरत के अनुसार इस सॉफ्टवेयर में इनपुट को खुद जांच कर के उसमे output बदलाव भी कर सकते है यूजर को Source code में modify करने के लिए पूरा कंट्रोल दिया जाता है Open Source software Source code की मुफ्त उबलब्ध के कारण  हर कोई ओपन Source के आने के  विकाश में योगदान दे सकता है यह एक निरन्तर विकास प्रदान करता  है जो सॉफ्टवेयर को कम समय मे तेजी से लाता है और सुधरता है

 

निष्कर्ष 

दोस्तो आशा है कि आप को इस पोस्ट से open Source software क्या है। और इसके फायदे से जुड़ी सारी जानकारी आप को मिल गयी होगी मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि हमारे पोस्ट के जरिये दिए गए विषय पर पूरी जानकारी मिल गयी होगी ताकि आप को कहि और न जाना पड़े  इस पोस्ट से जुड़ी  कोई भी परेशानी हो तो आप हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं जिससे हम आप के परेशानी को जल्द से जल्द दूर कर सके

Default image
RAHUL
नमस्कार दोस्तो मेरा नाम राहुल विश्वकर्मा है , और मै इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ । मैं अभी कंप्यूटर साइंस से डिप्लोमा कर रहा हूँ , मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है । अगर आप टेक्नोलॉजी , कंप्यूटर , इंटरनेट और ऑनलाइन पैसे कैसे कमाये से सम्बंधित विषय मे रुचि रखते है , तो यह ब्लॉग आप के लिए ही बनाया गया है ।

Leave a Reply