Proxy Server Kya hota hai ? Hindi Me .

Proxy Server Kya hai ? आप सभी ने सर्वर के बारे में जानते होंगे सर्वर एक ऐसा कंप्यूटर होता है जिसमे इंटरनेट पर मौजूद सभी जानकारी स्टोर होकर रहती है हम जो भी इनफार्मेशन वेब ब्राउज़र से सर्च करते है तो वह इनफार्मेशन ऐसे ही किसी सर्वर से हमारे डिवाइस तक पहुचती है आज भी हम ऐसे ही एक सर्वर के बारे में बताने वाले है ( प्रॉक्सी सर्वर क्या होता है ? )

जो दूसरे सर्वर से बिल्कुल अलग है अक्सर आप ने देखा होगा कि कई सारे स्कूल कॉलेज या आफिस में बहोत से वेबसाइट ब्लॉक कर दी जाती है और कई वेबसाइट ऐसी भी होती है जिन्हें कुछ देशों में एक्सेस करने की अनुमति भी नही दी जाती है तो ऐसे में इंटरनेट की कम जानकारी होने के वजह से बहोत से लोग इस ब्लॉक किये गए वेबसाइट को एक्सेस नही कर पाते लेकिन लेकिन कुछ इंटरनेट यूजर ऐसे भी होते है जिन्हें पता होता है कि किसी भी ब्लॉक वेबसाइट को एक्सेस कैसे करना है और यह काम वह बड़े ही आसानी से कर लेते है

जिसके बारे मे आज हम आप को इस आर्टिकल में बताने वाले है अगर आप को Proxy Server से जुड़ी सारी जानकारी चाहिए तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पड़े क्यो की कभी न कभी यह जानकारी आप के काम जरूर आएगी।

Proxy Server Kya hota hai ?

 

Proxy Server हमारे और इंटरनेट के बीच एक ब्रिज की तरह होता है जो यूजर को इंटरनेट की दुनिया मे जोड़ता है प्रॉक्सी सर्वर एक ऐसा कंप्यूटर होता है जो क्लिंट और इंटरनेट के बीच गेटवे यानी मुख्य द्वार की तरह कार्य करता है

प्रॉक्सी शब्द का मतलब होता है किसी दूसरे को प्रस्तुत करना या फिर किसी दूसरे की तरह से कार्य करना Proxy Server क्लिंट की तरफ से इंटरनेट पर  रिक्वेस्ट भेजता है और क्लिंट तक इनफार्मेशन भेजता है आप के जानकारी के लिए बता दे कि इंटरनेट पर हर कंप्यूटर के लिए एक विशेष प्रोटोकॉल पता यानी कि ip एड्रेस मौजूद होता है ip एड्रेस को इस तरह से आप समझ सकते है कि जैसे आप के घर का एक एड्रेस होता है जहाँ पर आप के नाम का लेटर या कोई पैक्ड आप के एड्रेस पर डिलेवर होता है

 

 

Proxy Server Kya hota hai ? Hindi Me .

 

उसी तरह इंटरनेट से डेटा को आप के देवीसड तक पहचाने के लिए ip एड्रेस का इस्तेमाल किया जाता है इस ip एड्रेस की वजह से इंटरनेट से आप के डिवाइस की लोकेशन का भी पता चल सकता है बहोत से लोग Proxy Server का इस्तेमाल अपने कंप्यूटर के ip एड्रेस को छुपाने के लिए  करते है जब आप इंटरनेट पर सर्च करने के लिए अपने ब्राउज़र का उपयोग करते है तो आप उस वेबसाइट से सीधे जुड़ जाएंगे जिस पर आ जा रहे है

लेकिन Proxy Server आप की ओर से  अन्य ip एड्रेस का इस्तेमाल कर वेबसाइट के साथ संबाद करते है और आप तक इनफार्मेशन पहुचते है जिसे आप के डिवाइस का ip एड्रेस छुप जाता है इसका मतलब है कि हम वेबसाइट को अपने कंप्यूटर सिस्टम या अन्य डिवाइस पर देखा तो सकते है लेकिन वेबसाइट सर्वर से जुड़ने वाले सिस्टम कोई और ही होती है जिसे प्रॉक्सी सर्वर कहा जाता है इस सर्वर की मदद से हम किसी वेबसाइट को सीधे अपने कंप्यूटर में एक्सेस न करके प्रॉक्सी सर्वर के द्वारा एक्सेस कर सकते है

Proxy Server काम कैसे करता है ?

Proxy Server यूजर और वेबसाइट की सर्वर के बीच एक माध्यम का काम करता है जब यूजर को कोई इनफार्मेशन चाहिए तो वह वेब ब्राउज़र पर किसी वेब पेज या किसी वेबसाइट को सर्च करता है यूजर का यह रिक्वेस्ट प्रॉक्सी सर्वर से होते हुए वेबसाइट के सर्वर तक पहुचता है और फिर वेबसाइट सर्वर प्रॉक्सी से आये हुए रिक्वेस्ट के आधार पर कंटेंट या फ़ाइल को प्रॉक्सी सर्वर पर भेजता है

 

Proxy Server काम कैसे करता है ?

 

Proxy Server से यह यूजर के डिवाइस पर इनफार्मेशन भेज दी जाती है यानी कि यूजर जब भी कोई रिक्वेस्ट भेजता है तो वह डायरेक्टली वेबसाइट के सर्वर पर नही जाती बल्कि सर्वर पर जाने से पहले वह प्रॉक्सी सर्वर पर जाती है और फिर वह रिक्वेस्ट प्रॉक्सी सर्वर से मेन वेब सर्वर तक जाती है इस तरह वेब सर्वर भी डायरेक्टली यूजर को डेटा भेजने के बजाय पहले प्रॉक्सी सर्वर को डेटा भेजता है अगर सरल शब्द में कहे तो यूजर को इंटरनेट से डेटा इंडिरेक्टली तरह से मिल रहा है।

Proxy Server का उपयोग क्यो किया जाता है ?

असल मे Proxy Server का इस्तेमाल ब्लॉग या वेबसाइट को खोलने के लिए किया जाता है साथ ही प्रॉक्सी सर्वर यूजर के सिक्योरटी से जुड़ी सुविधाएं भी प्राप्त करती है आमतौर पर प्रॉक्सी सर्वर का काम आप के पहचान को गोपनीय रखते हुए आप के द्वारा मांगी गई जानकारी को आप के सामने प्रदर्षित करना है

 

Proxy Server का उपयोग क्यो किया जाता है ?

 

जैसा कि हमने आप को पहले ही बताया है कि इंटरनेट से जुड़ी सभी कंप्यूटर का अपना अपना यूनिक IP अड्रेस होता है जिसके जरिये इंटरनेट को यह पता चल पाता है कि कौन सा कंप्यूटर किस लोकेशन पर स्थित है ताकि सही डेटा कंप्यूटर तक पहुचाया जा सके प्रॉक्सी  सर्वर भी एक प्रकार का कंप्यूटर ही होता है जिसका खुद का एक IP एड्रेस होता है तो जब भी यूजर को इंटरनेट से कोई इनफार्मेशन चाहिए होती है तो उसके लिए आप का डिवाइस सबसे पहले प्रॉक्सी सर्वर को रिक्वेस्ट भेजता है और प्रॉक्सी सर्वर यूजर के रिक्वेस्ट को उसे निर्धारित सर्वर को भेज देता है जहा पर वह इनफार्मेशन स्टोर रहता है .

 

ब्लॉक वेबसाइट को खोलने में Proxy Server की क्या भूमिका होती है ?

 

किसी किसी देश मे किसी किसी वेबसाइट को ब्लॉक कर दिया जाता है आओ जितने भी कोशिश कर ले आप उस ब्लॉक वेबसाइट को अपने सिस्टम में खोल कर नही देख पाएंगे लेकिन अगर आप प्रॉक्सी सर्वर का इस्तेमाल करके ब्लॉक वेबसाइट को खोलने की कोशिश करेंगे तो आप आसानी से उनके कंटेंट को देख पाएंगे जब आप किसी ब्लॉक वेबसाइट को प्रॉक्सी सर्वर की मदद से खोलते है

तो इंटरनेट पर आप का IP एड्रेस छुपा दिया जाता है और उसकी जगह एक ऐसा IP अड्रेस दर्शा दिया जाता है जिस पर वह वेबसाइट ब्लॉक न हो इस तरह से आप अपने डिवाइस से ब्लॉक वेबसाइट को खोल पाते है अगर आप ब्लॉक वेबसाइट को खोलना चाहते है तो आप को अपने ब्राऊज़र पर जाकर FREE प्रॉक्सी सर्वर लिस्ट टाइप करना है और आप को हजारों ऐसे वेबसाइट मिल जाएंगे जहा से आप को फ्री सर्वर की लिस्ट मिल जाएगी उनमे से एक प्रॉक्सी सर्वर को सेलेक्ट कर आप को ओपन कर के सर्च बॉक्स पर यूआरएल टाइप कीजिये और इंटर पर प्रेस करते ही आप का सर्च किया गया वेबसाइट ओपन हो जायेगा

 

 इसे भी पढ़े — BANDWIDTH होता क्या है ?

 

Proxy Server के क्या क्या फायदे है ? 

1. प्रॉक्सी सर्वर को कैचिंग के लिए उपयोग किया जाता है इसका मतलब है कि जब कोई  यूजर किसी इनफार्मेशन को प्रॉक्सी सर्वर के जरिये एक्सेस करता है तो सर्वर उस इनफार्मेशन को सेव कर लेता है ताकि जब कोई दूसरा यूजर उसी इनफार्मेशन को एक्सेस करता है तो सर्वर अपने आप मे से ही उस इनफार्मेशन को यूजर को दे देता है इसे एक और फायदा होता है कि इनफार्मेशन एक्सेस करने की स्पीड बढ़ जाती है

2. प्रॉक्सी सर्वर ip अड्रेस को छुपा देता है इसे यूजर की पहचान इंटरनेट से भी छुप जाती है या किसी वेबसाइट डायरेक्टली अपने कंप्यूटर से एक्सेस करते है तो आप का ip अड्रेस और कुछ अन्य डिटेल्स सर्वर में पहुच जाते है लेकिन प्रॉक्सी की मदद से इंटरनेट की जो भी सिस्टम की इनफार्मेशन जाती है वह प्रॉक्सी सर्वर की होती है जिसे यूजर की इडेंटी और नेटवर्क दोनो सुरछित हो जाते है और इसे उन हैकर का भी खतरा नही होता जो आप के सिस्टम के इनफार्मेशन को चुरा लेते है ।

3. प्रॉक्सी सर्वर के द्वारा ब्लॉक वेबसाइट खोला भी जा सकता है और यूजर की रिक्वेस्ट से किसी वेबसाइट को ब्लॉक भी किया जा सकता है अगर यूजर किसी वेबसाइट का इस्तेमाल नही करना चाहता है तो वह प्रॉक्सी सर्वर के द्वारा ब्लॉक कर सकता है जैसे कुछ माता पिता होते है वह यह नही चाहते है कि उनके बच्चे इंटरनेट पर कुछ भी गलत न देखे इसीलिए वह प्रॉक्सी सर्वर का इस्तेमाल वेबसाइट को ब्लॉक करने के लिए करते है

4. किसी भी ऑर्गनाइजातिओं के लिए  अपने सर्वर हैक होने और डेटा हैक होने का खतरा हमेशा बना होता है इस मामले में प्रॉक्सी सर्वर काफी हद तक सुरछा प्रदान करता है कोई भी ऑर्गनाइजातिओं प्रॉक्सी सर्वर की मदद से यूजर और सर्वर के बीच हो रहे कम्युनिकेशन को इनक्रिप्ट करती है जिसे कोई भी 3rd पार्टी डेटा को रीड न कर सके । हैकर आओ के प्रॉक्सी सर्वर तक तो पहुच सकते है लेकिन आप के रीड सर्वर जहा आप का सारा डेटा स्टोर होता है वहा पहुचने में उसे परेशानी का सामना करना पड़ता है

 

निष्कर्ष

दोस्तो आशा करता हु की आप को Proxy Server से जुड़ी सारी जानकारी मिल गयी होगी आप को यह भी पता चल गया होगा कि Proxy Server काम कैसे करता है और इसके क्या क्या फायदे होते है अगर आप किसी ब्लॉक वेबसाइट को खोलना चाहते है तो आप प्रिक्सय सर्वर का इस्तेमाल करके इन्हें एक्सेस कर सकते है

इस पोस्ट से जुड़ी कोई भी परेशानी हो तो आप हमें नीचे कमेंट ने बता सकते है ताकि हम आप के परेशानी को जल्द से जल्द दूर कर सके ।

Leave a Comment