What Li-Fi in Hindi – Li-Fi क्या है और यह काम कैसे करता है हिंदी में 2022

Li-Fi kya hota hai ? आप सभी ने तो Wi-fi के बारे में सुना ही होगा । क्योंकि Wi-fi भी हमारे इंटरनेट दुनिया का एक अहम हिस्सा बन चुका है । लेकिन दोस्तो आप को Wi-fi के अलावा भी यह ऐसी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने का मौका मिल सकता है जिससे कि आप अपना इंटरनेट light source के माध्यम से चला सकते है उस टेक्नोलॉजी को हम Li-Fi के नाम से जानते है ।

अब बहुत से लोग इस टेक्नोलॉजी के बारे में जानते भी होंगे । तो आप हम आप को Li-Fi  से जुड़ी सारी जानकारी देने वाले है जैसे कि Li-Fi  क्या है ? What is Li-Fi  ? और Li-Fi का क्या काम होता है इस सारे सवालों का जवाब हम आप को इस पोस्ट में देने वाले है तो आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

Li-Fi के बारे में बात करे तो इसका अर्थ Light Fidelity होता है । यह एक wireless optical networking technology से बना हुआ है । इसका मतलब यह डेटा ट्रांसमिशन करने के लिए Light- Emitting Diodes का इस्तेमाल करता है । अगर हम आप को इसे दूसरे शब्दों में समझाये तो यह एक light पर आधारित Wi-fi है यह प्रकाश के माध्यम से सूचना का आधार प्रदान करती है ।

 

Li-Fi  क्या है ? What Li-Fi in Hindi .

Li fi का full form यानी कि पूरा नाम Light Fidelity है । Li-Fi  एक हाई speed network technology पर बनी हुई है इसका इस्तेमाल हम डेटा ट्रांसमिशन करने के लिए करते है । इस टेक्नोलॉजी में डेटा को ट्रांसफर करने के लिए visible light communication यानी कि दृश्य प्रकाश संचार का इस्तेमाल किया जाता है ।

Li-Fi technology भी Wi-fi technology की ही तरह काम करती है ।लेकिन Wi-fi में डेटा को ट्रांसमिशन करने के लिए रेडियों तरंगों का उपयोग किया जाता है लेकिन वही पर यह टेक्नोलॉजी में डेटा ट्रांसमिशन के लिए प्रकाश का इस्तेमाल किया जाता है । इस टेक्नोलॉजी की डेटा ट्रांसमिशन की स्पीड Wi-fi की डेटा ट्रांसमिशन की स्पीड की तुलना में अधिक होती है ।

 

How to Li-Fi Works in Hindi – Li-Fi काम कैसे करता है ?

 

जैसा कि मैंने आप को पहले ही बता दिया कि इस टेक्नोलॉजी  से डेटा ट्रांसफर करने के लिए विज़िबल लाइट का इस्तेमाल किया जाता है । यह visible light पूरी तरह से कॉम्युनिकेशन के जरिये का इस्तेमाल करके काम  करता है । जिस तरह से हमारा tv का रिमोट काम करता है ठीक उसी तरह से यह Li-Fi भी काम करता है ।

आप को पता होगा कि Wi-fi और Li-Fi  यह दोनों ही डेटा ट्रांसमिशन का ही काम करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है । लेकिन आप को यह पता होना चाहिए कि Wi-fi से डेटा ट्रांसफर करने के लिए आप को Radio router का उपयोग करना होता है लेकिन Li-Fi से डेटा ट्रांसफर करने के लिए आप लाइट का इस्तेमाल करते है । और यह Wi-fi से तेज स्पीड में डेटा ट्रांसफर करता है ।

 

What Li-Fi in Hindi - Li-Fi क्या है

 

Li-Fi के मुख्य रूप से 3 घटक Components होते है , Lamp Driver , Led Bulb और Photo Detector होता है इन्ही तीनो से मिलकर यह काम करता है लेकिन साथ मे इन तीनो के अलावा आप को इंटरनेट की भी जरूर पड़ती है ।

Li-Fi  पहले से ही एक इंटरनेट सोर्स lamp driver से जुड़ा रहता है lamp driver का काम इंटरनेट से आने वाले इनफार्मेशन को LED bulb के अंदर पहचान होता है और फिर उसके बाद यह इनफार्मेशन LED Bulb के माध्यम से Photo Detector के पास पहुचाई जाती है और फिर photo Detector के पास पहुची हुई इनफार्मेशन को Binary Data के बदल यानी कि convert कर देता है । फिर उसके बाद से इस इनफार्मेशन को अगले वाले डिवाइस में transmit कर दिया जाता है ।

 

इसे भी पढ़े – WPS क्या होता है

Digital Signature क्या होता है ?

 

Li-Fi का इतिहास – History of Li-Fi .

 

Li Fi की खोज सबसे पहले Scotland के Edinburgh यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर Harald Haas ने 2011 में किया था । Harald Haas ने ही पहली बार एक एक्सपेरीमेंट किया था कि एक LED के प्रकाश के द्वारा भी हम डेटा का ट्रांसफर कर सकते है । यह तकनीक यानी कि Li Fi visible light communication VLC पर आधारिक है । दुनिया भर के बहुत सी शोध टीमें आज इस तकनीकी Li Fi पर काम कर रही है ।

Haas ने कहा है कि हमे इस लाइट ने एक माइक्रोचिप लगाना होगा जिसके बाद से यह wireless data transmission का संयोजन होगा ।आने वाले सालों में Wi-fi की पूरी जगह यह टेक्नोलॉजी नही लेगी यह दोनों टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से हम अधिक सुरक्षा से इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकते है ।

 

Li Fi के क्या – क्या फायदे है – What are the benefits of Li Fi .


1.Speed – दोस्तो Li-Fi  में कि जाने वाली Waves Wi-fi में की जाने वाली waves से कई गुना ज्यादा तेज होता है यही कारण होता है कि Li-Fi में जो डेटा ट्रांसमिशन की स्पीड होती है वह Wi-fi के डेटा ट्रांसमिशन की स्पीड से 100 गुना से भी तेज होती है । Li-Fi टेक्नोलॉजी 224 GB प्रति सेकंड की स्पीड से डेटा को संचारित करती है इस तरह के स्पीड से आप एक सेकंड में एक हाई क्वालिटी की वीडियो को डाउनलोड कर सकते है ।

2.Efficiency –  क्षमता जैसे कि आप को पता है कि यह टेक्नोलॉजी Visible light technology पर बना हुआ है आज कल तो हर किसी के घर मे LED बल्ब का उपयोग होता ही होगा आप इसी LED बल्ब के माध्यम से अपने Li-Fi  को इंटरनेट से कनेक्ट कर सकते है ।यह टेक्नोलॉजी राऊटर , MODEM , आदि जैसे इलेक्ट्रानिक के बिना भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है ।

3.Security –  सुरक्षा दोस्तो आप के Wi-fi को तो दूर से भी लोग इस्तेमाल कर सकते है जिससे आप को बहुत सारे डेटा का नुकसान हो सकता है लेकिन Li-Fi  को केवल वही लोग इस्तेमाल कर सकते है जो उस कमरे में लगी लाइट में रह रहे होंगे ।क्योंकि लाइट किसी दूसरे कमरे में नही जाता पता है और यह टेक्नोलॉजी किसी भी वायरलेस टेक्नोलॉजी की अपेछा बहुत ही सुरक्षित है ।

 

Li Fi के क्या – क्या नुकसान है – What is disadvantages of Li – Fi ? 

1. Li-Fi बहुत ही महंगा टेक्नोलॉजी होता है जिसे हम कोई नही इस्तेमाल कर सकता है ।

2. इस टेक्नोलॉजी में जब सूर्य की किरणें पड़ती है तो इसकी इंटरनेट स्पीड बहुत की स्लो हो जाती है ।

3. जब हम किसी Li-Fi का नया कनेक्शन लेते है तो हमको एक नया नेटवर्क बनाना पड़ता है ।

4. Li-Fi को हम लगभग एक ही रूम में या जहा तक रोशनी मिलती है वहाँ पर हम इसका इस्तेमाल कर सकते है ।

5. हम Wi-Fi की तरह इस टेक्नोलॉजी को कही पर भी नही ले जा सकते है । हमे इसे कही पे ले जाने में बहुत ही दिक्कत का सामना करना पड़ता है ।

 

इसे भी पढ़े – Android root क्या होता है ?

Integrated Circuit IC Kya Hai ?

 

 

Wi-fi और Li-Fi  के बीच मे क्या अंतर है – What is the difference between Wi-fi and Li-Fi .


जैसे कि आप सभी लोगो को पता है कि यह दोनों टेक्नोलॉजी ही डेटा ट्रांसफर करने के काम आता है लेकिन इस दोनों ही टेक्नोलॉजी में बहुत सारे अंतर भी है । तो आप को हम बताते है कि इन दोनों टेक्नोलॉजी में क्या अंतर है ।

1. Wi-fi में डेटा को ट्रांसफर करने के लिए Radio Waves यानी कि तरंगों का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन वही पर Li-Fi से डेटा को ट्रांसफर करने के लिए light का उपयोग किया जाता है ।

2. Li-Fi टेक्नोलॉजी में आप 1 मीटर की दूरी तक भी डेटा को ट्रांसफर कर सकते है जिसकी डेटा स्पीड करीब 1gbps तक हो सकती है ।

3. Wi-fi टेक्नोलॉजी में आप करीब 32 मीटर की दूरी तक भी अपना डेटा को ट्रांसफर कर सकते है और डेटा स्पीड करीब 150mbps तक हो सकती है ।

4. आप को पता होगा कि Li-Fi की टेक्नोलॉजी में lamp driver , led lamp , और photo detector का ही इस्तेमाल किया जाता है ।

5. Li-Fi की टेक्नोलॉजी में आप का डेटा बहुत ही सुरक्षित रहता है क्योंकि इस टेक्नोलॉजी में लाइट दीवार के दूसरी तरफ नही जा पाता है जिससे इसका इस्तेमाल आप के अलावा और कोई नही कर सकता है लेकिन वही पर Wi-fi technology का इस्तेमाल बहुत दूर तक किया जा सकता है जिससे आप को उसमे आप का डेटा सुरक्षित नही रहता है ।

 

 निष्कर्ष

दोस्तों आप को इस पोस्ट में Li-Fi क्या है और इसका काम क्या होता है इसके बारे में आप को पूरी जानकारी मिल चुकी होगी अगर आप को इस पोस्ट से जुडी कोई परेशानी हो तो हमे निचे कमेंट में जरूर बताये। और अगर आप को यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों से साथ शेयर जरूर करे।

 

 

 

 

Default image
RAHUL
नमस्कार दोस्तो मेरा नाम राहुल विश्वकर्मा है , और मै इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ । मैं अभी कंप्यूटर साइंस से डिप्लोमा कर रहा हूँ , मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है । अगर आप टेक्नोलॉजी , कंप्यूटर , इंटरनेट और ऑनलाइन पैसे कैसे कमाये से सम्बंधित विषय मे रुचि रखते है , तो यह ब्लॉग आप के लिए ही बनाया गया है ।

Leave a Reply